स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या सिर के अंदर खून बहने के कारण होता है। ये समस्या व्यक्ति के दिमाग में उत्पन्न हो जाए तो उसे कई तरह की समस्या का सामना करना पड़ सकता है, पर सही समय पर इसके बारे में जानकारी हासिल करके आप इस तरह की समस्या से खुद का बचाव कर सकते है, वहीं दिमागी दौरे के क्या कारण, लक्षण व बचाव के तरीके है के बारे में चर्चा करेंगे ; 

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या कारण है ?

इसके वैसे तो बहुत कारण है, पर ये फिलहाल दो कारणों में विभाजित किया गया है, जैसे –

  • अवरुद्ध धमनी या इस्केमिक स्ट्रोक के रूप में ये जाना जाता है। 
  • रक्त वाहिका के रिसाव के रूप में भी ये जाना जाता है। 
  • इस्कीमिक दौरे की बात करें तो यह तब होता है जब मस्तिष्क की प्रमुख रक्त वाहिकाओं में से एक संकुचित या अवरुद्ध हो जाती है। रक्त वाहिकाओं का संकुचन या रुकावट सजीले टुकड़े या थक्कों के जमा होने के कारण होता है।
  • रक्तस्रावी स्ट्रोक आपके मस्तिष्क में रक्त वाहिका लीक या फट जाती है, तो आप रक्तस्रावी स्ट्रोक विकसित करते है। 
  • वहीं ब्रेन हेमरेज से संबंधित कारकों में शामिल है –
  • आघात जैसी दुर्घटना। 
  • अनियंत्रित उच्च रक्तचाप का होना। 
  • धमनीविस्फार, उभार जो रक्त वाहिकाओं की दीवार पर विकसित होते है। 
  • वहीं इस्केमिक स्ट्रोक से रक्तस्राव होता है। 

स्ट्रोक क्या है ?

  • जब मस्तिष्क को रक्त की आपूर्ति कम या बाधित करती है, तो आपको स्ट्रोक या दिमागी दौरे की समस्या का सामना करना पड़ सकता है। आपके मस्तिष्क की कोशिकाएं समाप्त हो जाती है, जिससे मस्तिष्क की कार्यक्षमता कम हो जाती है। आपको उन गतिविधियों को करने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है, जो मस्तिष्क के उस हिस्से द्वारा नियंत्रित होती है जिसे स्ट्रोक का अनुभव हुआ था।
  • स्ट्रोक के बारे में विस्तार से जानने के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट के पास आना चाहिए।

दिमागी स्ट्रोक के दौरान किस तरह के लक्षण नज़र आते है !

  • चेहरे, हाथ या पैर का अचानक सुन्न होना या कमजोरी, खासकर शरीर के एक तरफ।
  • अचानक भ्रम, बोलने में परेशानी या भाषण समझने में परेशानी का सामना करना।
  • एक या दोनों आँखों में देखने में अचानक कठिनाई का आना।
  • अचानक चलने में परेशानी, चक्कर आना, संतुलन या समन्वय का नुकसान होना।
  • बिना किसी ज्ञात कारण के अचानक तेज सिरदर्द का होना।
  • मुँह का लटका हुआ होना।
  • अगर इसके लक्षणा गंभीर नज़र आए तो ऐसे में आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए। 

दिमागी स्ट्रोक का इलाज कैसे किया जाता है ?

  • टी पी ए (टिशू प्लास्मिनोजेन एक्टिवेटर), एक थक्का-रोधी दवा है जिसे नॉन-ब्लीडिंग स्ट्रोक की शुरुआत के तीन घंटे के भीतर लगाया जाता है।
  • दवाएं जो रक्त को पतला करती है, जिनमें एंटीकोआगुलंट्स (वारफारिन) और एंटीप्लेटलेट दवाएं (एस्पिरिन या टिक्लोपिडीन) शामिल होते है, एस्पिरिन और निरंतर रिलीज डिपाइरिडामोल का एक संयोजन।
  • सर्जरी जो संकुचित गर्दन की रक्त वाहिकाओं (कैरोटीड एंडाटेरेक्टॉमी) के अंदरूनी हिस्सों को खोलती है।
  • यदि रक्तस्राव स्ट्रोक का कारण बनते जा रहें है, तो उपचार में शामिल हो सकते है –
  • दवाएं जो सामान्य रक्त के थक्के को बनाए रखती है।
  • मस्तिष्क में रक्त निकालने या मस्तिष्क पर दबाव कम करने के लिए सर्जरी।
  • टूटी हुई रक्त वाहिकाओं को ठीक करने के लिए सर्जरी।
  • कुण्डली डालकर रक्तस्रावी वाहिकाओं को बंद करना।
  • मस्तिष्क की सूजन को रोकने या उलटने वाली दवाएं।
  • दबाव कम करने के लिए मस्तिष्क के खोखले हिस्से में एक ट्यूब का डालना आदि।

स्ट्रोक का पता कैसे लगाया जा सकता है ?

  • सीटी (CT) स्कैन। 
  • सीटीए (CTA) स्कैन।  
  • एमआरए (MRA) स्कैन।  
  • एमआरआई (MRI) स्कैन। 
  • उपरोक्त चारों परीक्षणों की मदद से आप अपने दिमाग के अंदर की समस्या का पता आसानी से लगा सकते है। 

दिमागी इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

आप अगर दिमागी तौर से काफी परेशान है तो इससे बचाव के लिए आपको झावर हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। वहीं इस हॉस्पिटल के स्टाफ व हॉस्पिटल की खास बात ये है की यहाँ पर मरीज़ का इलाज काफी अच्छे तरीके से किया जाता है, इसलिए अगर आप चाहते है की आपको और आपके दिमाग को किसी भी तरह की समस्या न हो तो इसके लिए आप इस हॉस्पिटल के अनुभवी डॉक्टर से जरूर मुलाकात करें।

ध्यान रखें 

दिमागी दौरे को हल्के में लेने की भूल न करें वरना इससे व्यक्ति पागल पन की स्टेज तक भी पहुंच सकता है। 

निष्कर्ष :

दिमागी दौरे की समस्या गंभीर है इसको इनकारा नहीं जा सकता लेकिन हां सही समय पर इसके बारे में जानने के बाद आप इसका इलाज करवा सकते है, जिससे आपको इस समस्या से निजात मिल सकें। वहीं स्ट्रोक की समस्या आने पर व्यक्ति को किसी भी तरह की दवाई या ट्रीटमेंट का चयन डॉक्टर के परामर्श के अनुसार ही करना चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न 

जब आपको मामूली स्ट्रोक होता है तो क्या होता है ?

आपके मस्तिष्क की कोशिकाएं समाप्त होने लगती है, जिससे मस्तिष्क की कार्यक्षमता कम हो जाती है। आपको उन गतिविधियों को करने में कठिनाई का सामना करना पड़ सकता है जो मस्तिष्क के उस हिस्से द्वारा नियंत्रित होती है जिसे स्ट्रोक का अनुभव हुआ था। खाने, बोलने या चलने-फिरने सहित शरीर में कई तरह की हरकतें होती है, और कई बार नहीं भी होती है।  

 स्ट्रोक का सबसे अच्छा इलाज क्या है?

तीव्र स्ट्रोक चिकित्सा में थ्रोम्बोलाइटिक दवा का उपयोग शामिल होता है जो लक्षणों की शुरुआत के बाद पहले 3 से 4 और आधे घंटे में अंतःस्रावी हो सकता है। यह रुकावट पैदा करने वाले रक्त के थक्के (थ्रोम्बस) को घोलकर काम करता है। इसे थ्रोम्बोलाइटिक थेरेपी कहा जाता है। और ये स्टॉक के इलाज में प्रयोग में लाया जाता है। 

मामूली स्ट्रोक का इलाज क्या है?

इसका इलाज करने के लिए आपको ध्यान रखना चाहिए की आप किस तरह के स्ट्रोक के लक्षण से गुजर रहें है। वहीं मामूली स्ट्रोक में आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए नहीं तो ये स्ट्रोक आगे चल कर गंभीर रूप धारण कर सकता है। 

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

What Medicines Are Necessary to Treat and Recover from Stroke?

The instant emergency medical services (EMS) come to transport you to the hospital, and your stroke treatment starts.

 

Once you visit the Best Neurosurgeons in Ludhiana, you might get emergency care, medication to stop a stroke from occurring again, therapy to deal with the stroke’s aftereffects, or all three.

 

Ischemic stroke treatment

If you seek medical attention within three hours of the onset of ischemic stroke symptoms, you may be given a thrombolytic (also known as a “clot-busting” drug) to break blood clots. A thrombolytic is a tissue plasminogen activator (tPA).

 

The chance of recovering from a stroke is increased by tPA. According to studies, patients with ischemic strokes who take tPA are more likely to make a full recovery or experience less handicap than patients who don’t take the medication. tPA patients are also less likely to require long-term care in a nursing home.

 

Unfortunately, many stroke patients arrive at the hospital too late to get tPA therapy. This is why it’s important to recognize stroke symptoms and signs as soon as possible and dial +91-9872940237

 

In addition to surgery to remove the clot, doctors may also offer other medications, such as blood thinners, to treat ischemic stroke.

 

Treatment of hemorrhagic stroke

It may be necessary to take extra medications, have surgery, or undergo additional treatments to stop the bleeding from a hemorrhagic stroke and protect brain tissue. For example,

 

It may be required to control the bleeding and preserve brain tissue with medicine, surgery, or other treatments. For instance:

 

Endovascular procedures Some hemorrhagic strokes may be treated with endovascular techniques, which can help mend a weak point or break in a blood vessel.

 

surgical procedure. Hemorrhagic strokes can be treated surgically. If a ruptured aneurysm is the cause of the bleeding, a metal clip may be used to reduce blood loss.

 

Recovering from stroke: stroke rehabilitation

Rehabilitation usually begins in the hospital after a day or two after a stroke. Rehabilitation makes it easier for patients to go home from the hospital and can lower their chance of having another stroke.

 

Recovery after a stroke is an individual experience; it may take weeks, months, or even years. While some experience long-term or permanent handicaps, others fully recover.

 

What to expect after a stroke

You can make considerable strides toward regaining your independence after a stroke. However, the following problems could still exist:

 

  • On one side of the body, a person may have weakness, paralysis, or both.
  • Problems with memory, judgment, learning, awareness, and attention.
  • Problems understanding or speaking.
  • Difficulty with emotion regulation or expression.
  • Strange or numb sensations.
  • Hands and feet pain that gets worse with activity and variations in temperature.
  • Difficulty swallowing and chewing
  • Problems controlling one’s bowels and bladder.
  • Depression.

 

What is the treatment for stroke?

Working with speech, physical, and occupational therapists can be a part of rehab.

 

  • Speech therapy helps those who have difficulty speaking or understanding what they are saying.
  • Exercises are used in physical therapy to help you regain any lost coordination and movement abilities following a stroke.
  • Occupational therapy intends to make everyday tasks easier, including eating, drinking, dressing, taking a shower, reading, and writing.

 

How can I stop having a stroke again?

You have a high risk of having another stroke if you’ve already had one. Therefore, it’s essential to tackle the factors that contribute to stroke, such as

 

  • Heart disease.
  • High blood pressure.
  • Atrial fibrillation (fast, irregular heartbeat).
  • High cholesterol.
  • Diabetes.

 

Neurologist in Ludhiana may offer you medication or advise you to adopt other healthy lifestyle practices, such as exercising or changing your diet. In some situations, surgery may also be helpful.

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

दिमाग की नस फटने से पहले पड़ता है छोटा अटैक, जानिए लक्षणों को पहचान कर हम इससे कैसे खुद का बचाव कर सकते है ?

न्यूरोलॉजिकल स्वास्थ्य के क्षेत्र में, चेतावनी संकेतों की सूक्ष्मताओं को समझना महत्वपूर्ण हो सकता है, खासकर जब मस्तिष्क धमनीविस्फार के संभावित खतरे की बात आती है। इससे पहले कि मस्तिष्क में कोई तंत्रिका किसी गंभीर बिंदु पर पहुंच जाए, वह आसन्न हमले का संकेत देने वाले सूक्ष्म संकेत प्रदर्शित कर सकती है। इन लक्षणों को पहचानने और सक्रिय उपाय करने से गंभीर परिणामों को रोकने में काफी मदद मिल सकती है। आइए इन संकेतकों की पहचान करें और समझें कि अपनी सुरक्षा कैसे करें ;

दिमागी छोटा अटैक क्या है ?  

ब्रेन स्ट्रोक की तरह छोटा अटैक भी दिमाग की नस ब्लॉक होने से आता है। वहीं कुछ रिपोर्ट के अनुसार इसकी वजह से दिमाग को ऑक्सीजन मिलना बंद हो जाते है। लेकिन ये डैमेज परमानेंट नहीं होती है और 24 घंटे में खुद ही ठीक हो जाती है।

दिमाग की नस फटने से पहले किस तरह के लक्षण नज़र आते है ?

  • आसन्न मस्तिष्क धमनीविस्फार के लक्षण हर व्यक्ति में अलग-अलग हो सकते है। हालाँकि, कुछ सामान्य संकेत प्रारंभिक चेतावनी दे सकते है। इन संकेतकों में अक्सर लगातार सिरदर्द शामिल होता है, जिसे आमतौर पर अचानक और गंभीर बताया जाता है। यह अनुभूति पिछले सिरदर्द के विपरीत हो सकते है, जिसकी तीव्रता असामान्य महसूस होती है। इसके साथ, व्यक्तियों को दृश्य गड़बड़ी का अनुभव हो सकता है, जैसे धुंधली दृष्टि या प्रकाश के प्रति संवेदनशीलता। ये लक्षण अचानक प्रकट हो सकते है या समय के साथ धीरे-धीरे खराब हो सकते है, जो चिंता का एक महत्वपूर्ण कारण बन सकते है।
  • एक अन्य प्रमुख संकेत गर्दन में दर्द या अकड़न की शुरुआत है, जो अक्सर आंखों के ऊपर और पीछे असुविधा या दर्द के साथ जुड़ा होता है। ये संवेदनाएँ रुक-रुक कर उठ सकती है या लगातार बनी रह सकती है। कुछ व्यक्तियों को ध्वनि के प्रति संवेदनशीलता, बोलने के पैटर्न में बदलाव या यहां तक कि व्यवहार में बदलाव का भी अनुभव हो सकता है जो उनके लिए असामान्य है। मतली और उल्टी, जिसका किसी अन्य स्पष्ट कारण से कोई संबंध नहीं है, जो ध्यान देने योग्य संकेत हो सकते है।
  • हालाँकि ये लक्षण व्यक्तिगत रूप से गैर-विशिष्ट या सौम्य लग सकते है, यह इन संकेतकों का संयोजन और दृढ़ता है जिस पर गंभीरता से विचार करने की आवश्यकता है। यदि किसी को ऐसे लक्षण अनुभव होते है, तो तत्काल चिकित्सा सहायता लेना महत्वपूर्ण हो जाता है। समय पर निदान और हस्तक्षेप धमनीविस्फार के टूटने और इसके संभावित विनाशकारी परिणामों को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। गंभीर मस्तिष्क की स्थिति होने पर आपको लुधियाना में क्लस्टर स्ट्रोक का इलाज जरूर से करवाना चाहिए।

दिमाग की नस फटने से पहले इसको कैसे रोके ?

  • हालाँकि, मस्तिष्क धमनीविस्फार को रोकना पूरी तरह से हमारे नियंत्रण में नहीं है, क्योंकि आनुवंशिकी, उम्र और पहले से मौजूद स्थितियों जैसे कारक इसके विकास में योगदान कर सकते है। फिर भी, कुछ जीवनशैली समायोजन और सावधानियां है, जो जोखिम को कम करने में सहायता कर सकती है। नियमित व्यायाम, स्वस्थ आहार बनाए रखना और रक्तचाप का प्रबंधन मौलिक निवारक उपाय है। धूम्रपान और अत्यधिक शराब के सेवन से बचना भी धमनीविस्फार के विकास के जोखिम को कम करने में महत्वपूर्ण है।
  • इसके अलावा, अपने स्वास्थ्य के प्रति सतर्क रहना अत्यावश्यक है। स्वास्थ्य देखभाल पेशेवरों के साथ नियमित जांच और परामर्श संभावित जोखिम कारकों की पहचान करने और उन्हें कम करने के लिए आवश्यक कदम उठाने में सहायता कर सकते है। व्यक्तिगत चिकित्सा इतिहास को समझना, खासकर यदि परिवार में एन्यूरिज्म चलता हो, सक्रिय उपाय करने और उचित चिकित्सा मार्गदर्शन प्राप्त करने में महत्वपूर्ण है।
  • तनाव प्रबंधन तकनीकें, जैसे कि माइंडफुलनेस, योग या ध्यान, भी एन्यूरिज्म के विकास के जोखिम को कम करने में भूमिका निभा सकते है, क्योंकि क्रोनिक तनाव उच्च रक्तचाप में योगदान कर सकता है, जो एन्यूरिज्म के लिए एक महत्वपूर्ण जोखिम कारक है।

दिमाग की नस फटने से पहले आप इससे कैसे खुद का बचाव कर सकते है इसके बारे में जानने के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

दिमागी छोटे अटैक से बचाव के लिए किन बातों का रखें ध्यान !

  • धूम्रान और शराब का सेवन बंद कर दें।
  • ताजे फल, सब्जी और साबुत अनाज का सेवन करें।
  • शरीर का वजन कंट्रोल रखें।
  • नियमित एक्सरसाइज करें।
  • फैट का सेवन कम कर दें।
  • ​टाइप 2 डायबिटीज, हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई बीपी जैसी बीमारियों की दवा लेते रहें।

मस्तिष्क के इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

अगर आप दिमागी दौरे या अटैक पड़ने की समस्या से खुद का बचाव करना चाहते है, तो इसके लिए आपको झावर हॉस्पिटल का चयन चाहिए। वहीं इस दौरान पड़ने वालें दौरे के लक्षणों को आपको नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए।

निष्कर्ष : 

मस्तिष्क धमनीविस्फार की संभावना कठिन लग सकती है, संभावित लक्षणों के बारे में जागरूक होना और आवश्यक सावधानी बरतने से गंभीर परिणामों को रोकने में काफी मदद मिल सकती है। चेतावनी के संकेतों को पहचानना, तुरंत चिकित्सा सहायता लेना और नियमित चिकित्सा जांच के साथ स्वस्थ जीवन शैली अपनाना मस्तिष्क धमनीविस्फार से जुड़े संभावित खतरों के खिलाफ हमारा कवच हो सकता है। इस स्थिति से जुड़े जोखिमों को कम करते हुए, अपने स्वास्थ्य और कल्याण को प्राथमिकता देना हमारे हाथ में है।

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

स्ट्रोक की समस्या क्या है ? जानिए इसके बाद की जटिलताएँ

स्ट्रोक, एक चिकित्सीय आपात स्थिति, तब होती है, जब मस्तिष्क में रक्त का प्रवाह बाधित हो जाता है, जिससे मस्तिष्क कोशिकाओं में ऑक्सीजन और पोषक तत्वों की कमी हो जाती है। इस अचानक रुकावट के परिणामस्वरूप व्यक्ति के लिए विभिन्न समस्याएं और संभावित गंभीर जटिलताएं उत्पन्न होती है, तो स्ट्रोक के बारे में आप जानना चाहते है तो इसके लिए लेख के साथ अंत तक बने रहें ;

स्ट्रोक की समस्या क्या है ?

  • स्ट्रोक की प्राथमिक समस्या मस्तिष्क को होने वाली तत्काल क्षति है। जैसे ही मस्तिष्क की कोशिकाएं ऑक्सीजन से वंचित हो जाती है, तो वे कुछ ही मिनटों में मरना शुरू कर देती है। व्यक्ति को अचानक चेहरे, हाथ या पैर में सुन्नता या कमजोरी जैसे लक्षण महसूस हो सकते है, खासकर शरीर के एक तरफ। वे भ्रम, बोलने या समझने में परेशानी, गंभीर सिरदर्द या चलने में कठिनाई से भी जूझ सकते है। स्ट्रोक के प्रकार और मस्तिष्क के प्रभावित क्षेत्र के आधार पर, इन मुद्दों की गंभीरता अलग-अलग हो सकती है।
  • प्रारंभिक स्ट्रोक के बाद, आने वाली जटिलताएँ व्यक्ति के स्वास्थ्य और जीवन की गुणवत्ता पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है। एक सामान्य जटिलता पक्षाघात है, जो शरीर के एक हिस्से को प्रभावित करता है। इससे चलने-फिरने, दैनिक गतिविधियाँ करने में कठिनाई हो सकती है और कभी-कभी गतिशीलता वापस पाने के लिए व्यापक पुनर्वास की आवश्यकता होती है।
  • एक अन्य प्रचलित मुद्दा बोलने और भाषा में कठिनाई एक स्ट्रोक संचार के लिए जिम्मेदार मस्तिष्क के क्षेत्रों को नुकसान पहुंचा सकता है, जिसके परिणामस्वरूप वाचाघात होता है, जो बोलने, समझने, पढ़ने और लिखने को प्रभावित करता है। इससे निराशा और विचारों को व्यक्त करने या बातचीत को समझने में कठिनाई हो सकती है।

स्ट्रोक की समस्या होने पर आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए।

स्ट्रोक के बाद की समस्याएं क्या है ? 

  • स्ट्रोक के बाद संज्ञानात्मक समस्याएं भी प्रचलित है। स्मृति, सोच और तर्क संबंधी समस्याएं उत्पन्न हो सकती है। ये संज्ञानात्मक चुनौतियाँ दैनिक कार्यों, निर्णय लेने और परिचित गतिविधियों को करने की क्षमता को प्रभावित कर सकती है।
  • कई व्यक्ति स्ट्रोक के बाद भावनात्मक गड़बड़ी से पीड़ित होते है। वे अचानक मूड में बदलाव, अवसाद, चिंता या यहां तक कि अनियंत्रित भावनाओं का अनुभव कर सकते है। इन भावनात्मक परिवर्तनों से निपटना शारीरिक सीमाओं से निपटने जितना ही चुनौतीपूर्ण हो सकता है।
  • संवेदी प्रसंस्करण में जटिलताएँ हो सकती है, जिससे संवेदनाएँ बदल सकती है या विशिष्ट इंद्रियाँ नष्ट हो सकती है। स्ट्रोक के बाद दृष्टि हानि, निगलने में कठिनाई, या शरीर के कुछ क्षेत्रों में सुन्नता भी असामान्य नहीं है।

लुधियाना में क्लस्टर स्ट्रोक का इलाज आपको जरूर से करवाना चाहिए, क्युकि ये काफी खतरनाक माना जाता है।

स्ट्रोक की समस्या के जोखिम क्या है ?

  • बार-बार होने वाले स्ट्रोक का जोखिम एक चिंताजनक मुद्दा है। जिन लोगों को स्ट्रोक हुआ है, उन्हें दूसरा स्ट्रोक होने का खतरा बढ़ जाता है। इस जोखिम को कम करने के लिए जीवनशैली में बदलाव, दवा और नियमित जांच जैसे निवारक उपाय महत्वपूर्ण हो जाते हैं।
  • इसके अलावा, स्ट्रोक के बाद का दर्द बना रह सकता है, जो सिरदर्द या शरीर में दर्द के रूप में प्रकट होता है, और तंत्रिका क्षति के परिणामस्वरूप दीर्घकालिक दर्द हो सकता है, जो व्यक्ति के आराम और समग्र कल्याण को प्रभावित कर सकता है।
  • अधिक गंभीर जटिलताओं में दीर्घकालिक विकलांगता की संभावना भी शामिल है। मस्तिष्क क्षति की सीमा और स्थान के आधार पर, कुछ व्यक्तियों को अपनी दैनिक गतिविधियों के लिए दीर्घकालिक देखभाल और सहायता की आवश्यकता हो सकती है।

स्ट्रोक की समस्या से अगर आप खुद का बचाव करना चाहते है, तो इसके लिए झावर हॉस्पिटल का चयन चाहिए।

संक्षेप में :

बाद की जटिलताएँ किसी व्यक्ति के जीवन पर महत्वपूर्ण प्रभाव डाल सकती है, जिसके परिणामस्वरूप दीर्घकालिक विकलांगता, भावनात्मक परिवर्तन और बार-बार होने वाले स्ट्रोक का खतरा हो सकता है। स्ट्रोक से जुड़ी समस्याओं और उनकी जटिलताओं को समझना व्यक्तियों को उनके ठीक होने की राह पर आवश्यक देखभाल और सहायता प्रदान करने में महत्वपूर्ण है। प्रारंभिक हस्तक्षेप, पुनर्वास और जीवनशैली समायोजन स्ट्रोक के बाद जीवन की गुणवत्ता में सुधार करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है।

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

स्ट्रोक पुनर्वास क्या है और ये कैसे हमारे दिमाग के साथ संबंधित है?

स्ट्रोक पुनर्वास एक ऐसा उपचार माना जाता है, जिसमे स्ट्रोक या दिमागी दौरे के कारण हमारा दिमाग सही से कार्य करने में असमर्थ होता है तो उसको फिर से ठीक किया जा सकता है। स्ट्रोक पुनर्वास की मदद से व्यक्ति जो भी दिमागी तौर पर समस्या का सामना कर रहें होते है उससे वो आसानी से निजात पाने में सक्षम हो पाते है, स्ट्रोक पुनर्वास  क्या है, इसमें कौन-कौन से लोग शामिल है के बारे में अगर आप जानना चाहते है, तो इसके लिए लेख के साथ अंत तक बने रहें ;

स्ट्रोक पुनर्वास क्या है ?

  • स्ट्रोक पुनर्वास को सरल भाषा में समझने की कोशिश करें तो इसमें हम पुनर्वास की मदद से दिमागी नुकसान को आसानी से वापस पा सकते है। पुनर्वास के दौरान ज्यादातर लोग ठीक हो जाते है। हालांकि, कई पूरी तरह से ठीक नहीं होते है। 
  • त्वचा कोशिकाओं के विपरीत, तंत्रिका कोशिकाएं जो मर जाती है वे ठीक नहीं होती है और उन्हें नई कोशिकाओं द्वारा प्रतिस्थापित नहीं किया जाता है। हालांकि, मानव मस्तिष्क अनुकूलनीय है। क्षतिग्रस्त मस्तिष्क कोशिकाओं का उपयोग करके लोग कार्य करने के नए तरीके सीख सकते है।
  • यह पुनर्वास अवधि अक्सर एक चुनौती होती है। 
  • वहीं इसमें रोगी और परिवार नर्सों और डॉक्टरों के साथ शारीरिक, व्यावसायिक और भाषण चिकित्सक की एक टीम के साथ काम करते है। तो इस प्रक्रिया में अधिकांश सुधार प्रक्रिया के पहले तीन से छह महीनों में होंगे। लेकिन कुछ लोग लंबी अवधि में अच्छी प्रगति कर सकते है।

स्ट्रोक पुनर्वास में क्या शामिल हो सकते है ?

  • लोगों को स्ट्रोक से बाहर निकालने के लिए कई दृष्टिकोण सहायक माने जाते है। लेकिन कुल मिलाकर, पुनर्वास विशेष रूप से केंद्रित और दोहराए जाने वाले कार्यों पर केंद्रित है। वहीं एक ही चीज़ का बार-बार अभ्यास करना। आपकी पुनर्वास योजना आपके स्ट्रोक से प्रभावित शरीर के हिस्से या क्षमता के प्रकार पर निर्भर कर सकती है।

स्ट्रोक से निजात पाने के लिए निम्नलिखित शारीरिक पुनर्वास की गतिविधियां शामिल हो सकती है, जैसे ;

  • मोटर-कौशल व्यायाम, की प्रक्रिया में व्यायाम पूरे शरीर में मांसपेशियों की ताकत और समन्वय को बेहतर बनाने में मदद कर सकते है। इनमें संतुलन, चलने और यहां तक ​​कि निगलने के लिए उपयोग की जाने वाली मांसपेशियां शामिल हो सकती है।
  • गतिशीलता प्रशिक्षण, में आप वॉकर, बेंत, व्हीलचेयर या टखने के ब्रेस जैसे गतिशीलता उपकरणों का उपयोग करना सीख सकते है। जब आप फिर से चलना सीखते है तो टखने का ब्रेस आपके शरीर के वजन को सहारा देने में मदद करने के लिए आपके टखने को स्थिर और मजबूत कर सकता है।

फिर पुनर्वास में संज्ञानात्मक और भावनात्मक गतिविधियां शामिल है, जैसे ;

  • संज्ञानात्मक विकारों के लिए थेरेपी. व्यावसायिक थेरेपी और स्पीच थेरेपी आपको स्मृति, प्रसंस्करण, समस्या-समाधान, सामाजिक कौशल, निर्णय और सुरक्षा जागरूकता जैसी खोई हुई संज्ञानात्मक क्षमताओं में मदद कर सकती है।
  • संचार विकारों के लिए थेरेपी, में स्पीच थेरेपी आपको बोलने, सुनने, लिखने और समझने की खोई हुई क्षमताओं को वापस पाने में मदद कर सकती है।
  • मनोवैज्ञानिक मूल्यांकन और उपचार, आपके भावनात्मक समायोजन का परीक्षण किया जा सकता है। आप परामर्श भी ले सकते है या किसी सहायता समूह में भाग ले सकते है।
  • आपके डॉक्टर इस समस्या से निजात दिलवाने के लिए आपको एक एंटीडिप्रेसेंट या ऐसी दवा लेने की सिफारिश कर सकते है जो सतर्कता, उत्तेजना या गतिविधि को प्रभावित करती है।

स्ट्रोक पुनर्वास को कब शुरू करना चाहिए ? 

  • जितनी जल्दी आप स्ट्रोक पुनर्वास शुरू करेंगे, आपकी खोई हुई क्षमताएं और कौशल आप उतनी जल्दी वापस पाने की सक्षम हो पाएगे।
  • आपके स्ट्रोक के 24 से 48 घंटों के भीतर, जब आप अस्पताल में हों, तो स्ट्रोक पुनर्वास शुरू होना आम बात है।

स्ट्रोक पुनर्वास से बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट के संपर्क में आना चाहिए।

स्ट्रोक पुनर्वास को शरीर के किस हिस्से पर किया जाता है ?

  • पुनर्वास आमतौर पर स्ट्रोक के बाद अस्पताल में शुरू होता है। यदि आपकी स्थिति स्थिर है, तो स्ट्रोक के दो दिनों के भीतर पुनर्वास शुरू हो सकता है और अस्पताल से आपकी रिहाई के बाद तक जारी रह सकता है। 
  • वहीं स्ट्रोक पुनर्वास शरीर के विभिन्न हिस्सों पर किया जा सकता है, जो स्ट्रोक के परिणामस्वरूप व्यक्ति द्वारा अनुभव की जाने वाली विशिष्ट हानि और विकलांगता पर निर्भर करती है।
  • यहां शरीर के कुछ सामान्य क्षेत्र है, जो स्ट्रोक पुनर्वास के कारण प्रभावित होते है ;
  • ऊपरी अंग यानी बाहें और हाथ। 
  • निचले छोर यानि पैर के हिस्से आदि।

स्ट्रोक के कारण आपके शरीर और दिमाग पर काफी गहरा प्रभाव पड़ा है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए।

स्ट्रोक पुनर्वास में कौन-सी टीम शामिल होती है ?

  • अनुभवी डॉक्टरों की टीम इसमें शामिल होती है। 
  • पुनर्वास नर्सें भी इस टीम में शामिल होती है। 
  • अगर आप चलने फिरने में असमर्थ है भौतिक चिकित्सक की टीम भी आपके देखभाल में शामिल हो सकती है 
  • व्यावसायिक चिकित्सक की टीम का शामिल होना।  
  • भाषण और भाषा रोगविज्ञानी का शामिल होना। 
  • सामाजिक कार्यकर्ता का शामिल होना। 
  • मनोवैज्ञानिक का शामिल होना। 
  • चिकित्सीय मनोरंजन विशेषज्ञ का शामिल होना। 
  • व्यावसायिक परामर्शदाता का शामिल होना आदि।

सुझाव :

स्ट्रोक या दिमागी दौरे के कारण अगर आपका शरीर ठीक तरीके से कार्य करने में असमर्थ है तो इससे बचाव के लिए आपको जल्द डॉक्टर के सम्पर्क में आना चाहिए और स्ट्रोक या स्ट्रोक से पुनर्वास की मदद से आप इस समस्या से खुद का बचाव आसानी से कर सकते है। इसके अलावा आप चाहे तो इसका इलाज झावर हॉस्पिटल से भी करवा सकते है।

निष्कर्ष :

स्ट्रोक की समस्या काफी गंभीर है लेकिन पुनर्वास की मदद से आप इस तरह की समस्या से खुद का बचाव आसानी से करवा सकते है और स्ट्रोक की समस्या से भी खुद का बचाव कर सकते है, पर ध्यान रहें स्ट्रोक की समस्या आने पर आप किसी भी तरह की दवाई को खुद से न लें जब तक डॉक्टर से परामर्श न लें।

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

Advanced And Traditional Possible Treatment Available for Stroke

Stroke treatment: Advanced and Traditional Approach

Medical treatment has the power to save and change lives. Indeed, the invention and latest facilities are the central points of keeping customers’ trust at a top-notch level. Most importantly, it’s the avaliability of effective stroke treatment. Being categorized as one of the fatal conditions, it’s essential to get advanced care at one of the best Neuro Hospital in Ludhiana.

Don’t let a stroke hold your life back

Stroke happens when blood vessels get ruptured or blocked leading to improper brain blood flow. The brain function or coordination are affected. Medical advancement has made it possible to get Acute Stroke Treatment in Punjab under the expert supervision of a neuro doctor. The latest inventions are the biggest factor in reducing pain, letting the brain function properly, and helping live better lives.

Stroke can be linked to the spine and other organs in the body. Therefore, if you suspect anything wrong, you need to get the expertise of the experienced Neuro Spine Doctor in Ludhiana to know what next step you have to take.

Treatment for stroke for different types

Ischemic stroke

Around 87% of the cases of ischemic stroke can significantly impact the blood flow to the brain. There is an endless treatment that is in existence for this stroke type:

  • Tissue plasminogen activator

It’s an FDA-approved treatment that works by delivering an IV in the arm to make the blood flow better to the affected part of the brain. The treatment works effectively for smaller blood clots. The treatment should be given 3 or 4.5 hours of knowing the symptoms.

  • Mechanical thrombectomy and stent retriever therapy

Another effective FDA-approved treatment works through the mechanical approach with stent involvement. The stent captures the clot that might be trapped in the body. It’s an advanced approach for stroke treatment and works effectively when started within 6 hours.

  • Detachable coil method

Another great stroke treatment is the detachable coil method, best suited for patients with high-risk intracranial aneurysms. During treatment, a small platinum coil will be put into the artery to let the immune system give a response. The procedure aims to provide the artery wall with the right amount of strength and reduce the chances of possible rupture.

Hemorrhagic stroke

During a hemorrhagic stroke, the blood vessels become weak, and bleeding might occur in the brain. The chances of getting the condition increase due to high blood pressure. The possible treatment for this type of stroke are:

  • Surgical AVM removal

Surgical AVM removal involves blood vessel removal on time before it leads to possible rupture and stops the chances of another stroke. The use of AVM is also smooth when the location is easy to access.

  • Endovascular method

Another great method is the endovascular procedure that’s less invasive for stroke treatment. The main aim is to prevent the chances of possible rupture.

Effective surgical treatment for stroke

Some of the most effective surgical treatments for stroke are:

  • Clipping

  • Stereotactic radiosurgery

  • The intracranial bypass

  • Coiling i.e. endovascular embolization

Want to know more about stroke treatment?

Schedule an initial consultation with Dr. Jhawar to determine the most appropriate and effective way to address the problem and what care will make your life better.

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

Advanced and modern neuro-intervention is a savior for stroke patients

Stroke: Requires early and prompt care

Stroke is one of the everyday emergencies because it leads to disability; around 50% of the individuals have difficulty getting functional independence, and 10% to 15% of stroke occurs among individuals under 40 years old. In all this, it’s crucial to visit one of the leading Neuro Hospital in Ludhiana to take early medical care and improve overall well-being.

Neuro-Intervention is improving and getting better at a fast pace

The field of radiology has improved a lot over time. Most importantly, it’s something that’s getting a lot better with time. The experienced Vascular Neurologist in Punjab is the one who is well aware of the minimally invasive procedures and ensure the patients are informed to make the right decisions.

Ways to identify a stroke

One thing is evident stroke patients require prompt care. And if that does not happen, the overall well-being can get affected. So, it all comes to identifying the signs of stroke by consulting an experienced neuro specialist In Ludhiana. Therefore, it all comes down to understanding the FAST symptoms that, includes:

  • Drooping face
  • Arm weakness
  • Speech difficulty
  • Weakness or numbness in the legs
  • Problem walking
  • Loss of coordination or balance
  • Severe headache or thunderclap

All these symptoms happen suddenly. Therefore, it’s important to be cautious and take necessary measures on time. As strokes are of different types, depending on your one, the doctor will give you the best possible care.

What kind of treatment does the stroke patient get?

The approach of minimally invasive surgery has come to light with neurointervention. The catheter is inserted into the groin area during the procedure, and X-ray guidance will be there throughout the surgery. The mechanical approach makes it all convenient and accountable to perform everything with ease.

Technological evolution is the biggest factor in changing an entire scene and getting something effective in the present environment. Therefore, with neuro intervention, there’s utmost ease in everything.

Busting myths about stroke

No doubt, medical intervention is the biggest factor in improving the situation. For stroke patients, the most important part is to stay informed. That means you should not fall for the myths that revolve around stroke. To enlighten you about the same, I have mentioned the most common myths that do not make sense and point toward getting prompt medical care.

Myth: No availability for stroke treatment

Fact: Medical science has evolved a lot with time. Be prompt to notice the stroke symptoms and get an effective treatment plan.

Myth: Strokes are not common

Fact:  Stroke prevalence globally is around 15 million. Additionally, individuals of all age groups get a stroke.

Myth: Stroke cannot be hereditary

Fact: If there’s a family history of stroke, then there’s an increased possibility for someone in the family to get the same.

Myth: Stroke symptoms have gone; there’s no need to consult the doctor

Fact: Temporary stroke symptoms are Transient ischemic attack (TIC). These signs occur before the stroke and need prompt medical care.

Final word

Stroke is common, but that does not mean you have to neglect it.

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

Advanced Stroke Care: All about the latest treatment for recovery from stroke

Stroke Treatment

Stroke is one of the most common brain health conditions every 4 minutes. That’s not all stroke is one of the significant reasons behind disability, and it can occur at any age. The chances of having a stroke increase with age; therefore, you must consult one of the Best Neurologist in Ludhiana to improve your overall health.

As the prevalence of stroke is increasing, advanced care and treatment plans have started to gain attention. If you consider the same, then the blog will highlight the most latest and advanced Acute Stroke Treatment in Punjab to improve the overall condition.

Stroke recovery with new and advanced treatment

The option of new and updated stroke treatment lets the individual have a state of recovery for giving utmost satisfaction at all possible steps. Not just that, doctors’ advanced ability helps manage the stroke at all times. For stroke management, it’s essential to be constantly on the toes so the condition doesn’t get any worse. Additionally, there’s an increased rate of spinal stroke. Therefore, it’s essential to consult a medical expert and understand whether your condition demands you to get Spine Surgery in Punjab. Now, let’s understand all about the recovery from stroke with new treatment:

  • Possibility to compensate from stroke result

One of the reports has shown that the brain can easily compensate for the lost function due to stroke with new advancements through imaging and rehabilitation. Although, there’s still proper processing required to understand brain damage and the possible risk factors.

  • Possibility of preserving brain cells after stroke

One of the studies has shown that brain cells can be preserved following a stroke. Treating acute ischemic stroke through treatment options like neuroprotective drugs is essential. Afterward, using a surgical procedure that helps to remove brain clots.

Which is the best therapy for stroke?

The latest advancements and discoveries work best for stroke treatment to ensure hope and the best opportunities for stroke patients. For stroke patients, seeking treatment that makes a huge difference to overall well-being and offers good long-term effects is essential. To ensure that stroke patients seek treatment on time and without the need to wait for a long time, understand the possible signs and symptoms. It’s true being aware of the stroke signs lets you have medical care at the earliest. Some of the known signs and symptoms of a stroke are:

  • Dizziness
  • Balance problem
  • Headache problem but without any reason
  • Face or weakness in the leg, arm, or face. Mostly these signs occur on one side of the body
  • Confusion or problem understanding what others say
  • Not able to see with one or both eyes

Stroke awareness tells you to “ACT FAST”

When you are aware of stroke symptoms; you are in a better state to act quickly. Seeking on-time medical treatment helps to limit the chances of brain damage and permanent disability. Apart from understanding the symptoms, you need to consider:

  • Know the facts like types, causes, and other things
  • Know more about the recovery plan
  • Understand the way things work
किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

What Is A Vascular Neurologist And What Do They Diagnose And Treat?

You might be confused about stroke and what kind of medical event you should associate it with. Whether it is an emergency scene or a chronic disease? Well, to be precise, it is both.

According to data, someone is suffering from a stroke every 40 minutes. Apart from being a worrying cognition, it is also a leading cause of long-term disabilities. Also, a person who has had a previous stroke is more likely to get affected by another (almost one in four).

That is why it is essential to call the emergency number right after you notice the first sign of a stroke to avoid any significant disabilities or complications. It is vital to get the proper treatment from the Best Neurologist in Ludhiana in order to manage the lasting effects hopefully. They are also very helpful in preventing another stroke from occurring in the future. This is where the use of a vascular neurologist comes in. They are a specialist who works closely to treat the strokes in an individual.

P.S: they are also called “stroke doctors.” 

What Is A Vascular Neurologist?

A vascular neurologist is a specialist who specializes in diagnosing and also treating any condition that is related to controlling cerebrovascular disease. They are basically a health concern that has a negative impact on the spinal cord and the blood vessels in the brain. The most common type of cerebrovascular disease includes stroke. This is the reason why they got the name “stroke doctor.” 

What Makes A Stroke Doctor Or Vascular Neurologist Different From Other Neurologists?

All the other neurologists have specialized in diagnosing and treating the condition related to the brain or the central nervous system. So it is natural for the doctor to have stroke management and Vascular Neurology Treatment in Ludhiana as a part of their neurologist training.

Whereas the stroke doctor or the vascular neurologists specialize in managing and controlling the strokes.

However, you must know that there are many different types of subspecialists of neurology that a neurologist can take. They do this to gain more training and experience in their field.

Vascular neurology is one of those subspecialists the neurologist chooses for further experience.

The neurologist is told to complete an undergraduate degree. After that, they need to cover medical school and a three-year residency. To get the vascular neurologist training, they have to complete the fellowship to pursue the in-depth training in vascular neurology. 

Does A Vascular Neurologist Treat Other Conditions Other Than Stroke?

Why not? They can do both.

While there are vascular neurologists who only want to keep their focus on managing and treating the stroke of the patients, but there are also some who want to go further and treat other conditions. Remember, they are experts with special training in cerebrovascular diseases as a whole.

Some of the conditions that they can diagnose, manage and treat are:

  • Blood vessel malformations
  • Brain aneurysms
  • Brain or spinal cord injuries
  • Blood vessel inflammation
  • Narrowing of the arteries that supply blood to the brain. 

 

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views

Stroke: What To Do And What Not?

Stroke or brain attack: Immediate medical assistance is important

Stroke is one of the most troublesome and life-threatening situations where a patient’s life counts every second. A person is not under her senses, so the ones around him have to take the best care of themselves. Every second counts, and it’s imperative to take the proper measures; otherwise, the person’s condition can worsen. Most importantly, call an ambulance from one of the Best Brain Hospital in Punjab without any delay.

Three things to do if someone is having a stroke

First: Call ‘112’ right away

Without doing anything else, pick up your phone and call 112.

No doubt, not everyone is aware of the stroke symptoms. In case you notice any symptoms, then call for an emergency. You can discuss the stroke symptoms and what measures to take from one of the best brain and Spine Doctors in Punjab.

Second: Note the time when symptoms started

Please do note the time when the symptoms started or what was the one that you noticed. As there’s a clot-busting medication, if given to someone having a stroke within 4.5 hours will reverse or stop the symptoms. Bear in mind when the treatment or medical intervention is given early, it does make a lot of difference.

Third: Understand CPR and perform it

Although, not every patient needs CPR. But, if you find the person unconscious, then please check the following:Breathing

  • Pulse

You can ask the medical expert to enlighten you about CPR and how to perform it. If the severity of stroke is higher, the chances of them having  Acute Stroke Treatment in Punjab are higher.

Three things not to do if someone is having a stroke

First: Never let the person sleep until the ambulance arrives or they reach the hospital

Studies have shown that stroke patients feel sleepy after a stroke. Moreover, the stroke survivors make the mistake of going to sleep first instead of going to the hospital.

As mentioned above, every second counts, so don’t delay medical intervention. Please make sure to visit the ER.

Second: Please don’t let them have food or drinks

Stroke patients should not have any food, drinks, or medications until they see the doctor. Thinking of taking aspirin, keep in mind that it can easily rupture your blood vessels and worsen the condition. All these habits will do more harm to stroke patients.

Third: A stroke person should never drive

Even if the stroke patient feels better and conscious, they should never drive on their own. Always take assistance from someone responsible enough to handle everything.

What are the common stroke symptoms?

  • A hang on one side of the face
  • Difficulty lifting one arm or using the hand
  • Difficulty moving one leg or dragging leg to walk
  • Problem speaking or talking
  • Impaired vision in one or both eyes
  • Vertigo or dizziness
  • Difficulty walking or sudden imbalance

Do you need medical assistance?

Schedule an initial consultation with Dr. Jhawar to make an ill-informed decision about your condition.

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?
epilepsy

किसे कहते है मिर्गी और इसके घरेलू उपचार संभव है ?

मिर्गी का दौरा दुनिया में चौथा सबसे आम तंत्रिका संबंधी विकार है। यदि आपको मिर्गी है, तो आपके मस्तिष्क में विद्युतीय गतिविधि बढ़ने से बार- बार दौरे पड़ सकते है।…

  • April 15, 2024

  • 2 Views

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !
Stroke

स्ट्रोक या मस्तिष्क दौरे के क्या है – कारण, लक्षण और बचाव के तरीके !

आज के समय में स्ट्रोक, या मस्तिष्क का दौरा बढ़ते काम को लेकर कोई बड़ी बात नहीं है, वहीं ये दौरा मस्तिष्क में रक्त के प्रवाह में अचानक कमी या…

  • April 12, 2024

  • 129 Views