सिर,पीठ और गर्दन में दर्द की समस्या ने न्यूरो संबंधी बीमारियों को दिया आमंत्रण

 न्यूरोलॉजिस्ट कौन होता हैं ?

० एक न्यूरोलॉजिस्ट मस्तिष्क और तंत्रिका प्रणाली के रोगों के निदान और उपचार में विशेषज्ञ होता है।

० तो वही ये न्यूरोडेवलपमेंटल डिसऑर्डर, और अन्य केंद्रीय तंत्रिका तंत्र से संबंधित स्थितियों जैसी

बीमारियों का भी इलाज करते हैं।

० तंत्रिका विकार या न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर आमतौर पर नर्वस सिस्टम को प्रभावित करने वाले वायरल, जीवाणु,

कवक और परजीवी संक्रमण के कारण होते हैं।

० नर्वस सिस्टम की बात करें तो इसमें अल्जाइमर रोग, डिमेंशिया, मिर्गी, सेरेब्रोवास्कुलर जैसे माइग्रेन, स्ट्रोक और अन्य

    सिरदर्द शामिल होते हैं।

० न्यूरोलॉजिकल समस्या आमतौर पर किसी वायरल या संक्रमण के कारण होते हैं. इससे हमारे शरीर के कई अंगों को

एक साथ नुकसान पहुंच सकता है।

न्यूरोलॉज़ी के आम लक्षण क्या पाए जाते हैं ?

> सिर, गर्दन, पीठ या शरीर के विभिन्न अंगों में दर्द।

> अंगों का फड़कना, झुनझुनी या कमजोरी का होना।

> कमजोरी, आंखों की रोशनी का कम होना, चक्कर आना और बोलने या निगलने में परेशानी।

> दौरे पड़ना, अंगों का मरोड़ना और बार-बार बेहोश होना।

> मांसपेशियों में अकड़न, कपकपी, याददाश्त या मानसिक क्षमता का कमजोर होना।

भोजन करते समय इन बातों का रखें खास ध्यान!

एक न्यूरोलॉज़ी के मरीज़ को अपने स्वास्थय शरीर के लिए खाने की तरफ खास ध्यान रखना चाहिए, जिनका उल्लेख निम्न हैं

  • हरी-पत्तेदार सब्जियों का सेवन, जोकि विटामिन से भरपूर होने की वजह से हमारे शरीर को पोषण देती हैं।
  • मछली का तेल भी काफी फायदेमंद माना जाता है हमारे सेहत के लिए।
  • डार्क चॉकलेट का इस्तेमाल।
  • ब्रॉक्ली।
  • सामन मछली।
  • अवाकाडो।
  • बादाम।
  • कद्दू के बीज इत्यादि।

न्यूरो संबंधी बीमारियां:

  • सिर दर्द होना।
  • मिर्गी और दौरे का पड़ना।
  • सहलाना या इसे ब्रेन अटैक भी कह सकते हैं |
  • अल्जाइमर रोग और मनोभ्रंश की वजह से मस्तिष्क का सिकुड़ना इत्यादि।

इन रोगो को देखते हुए आप बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट लुधियाना का चयन अपने रोगो और लक्षणों के हिसाब से कर सकते हैं

न्यूरोलॉजिकल डिस्ऑर्डर या न्यूरोलोजी की बीमारी का इलाज क्या हैं?

  1. प्रभावी उपचार के लिए एक अच्छे न्यूरोलॉजिस्ट से परामर्श लें. न्यूरोलॉजिकल स्थिति को जानने के लिए

न्यूरोलॉजिस्ट को कई तरह के परीक्षण करने की जरूरत भी पड़ सकती हैं, आपके रोग जानने के बाद।

  1. कुछ मामलों में, उन्हें गंभीर परिस्थितियों में ऑपरेशन करने के लिए न्यूरोसर्जन या इंटरवेंशनल न्यूरोलॉजिस्ट की मदद

की जरूरत हो सकती है. एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि इस रोग में किसी को भी बिना घबराए बहुत ही संयम के

साथ चलना चाहिए और जरूरी भावनात्मक समर्थन और देखभाल की व्यवस्था जरूर से करनी चाहिए

  1. क्युकि अच्छे देखभाल की वजह से रोगी जल्दी ठीक हो जाता हैं।

यदि आप भी मस्तिष्क के रोग से निजात पाना चाहते हैं, तो झवार न्यूरोलॉजी हॉस्पिटल का चयन आपके और आपके सेहत के लिए काफी सही रहेगा और साथ ही मष्तिष्क से जुडी जो भी स्कैन होते है | उसकी सुविधा भी इस हॉस्पिटल में मौजूद हैं। जिससे की लोगो को किसी भी तरह की परेशानी के लिए भटकना नहीं पड़ेगा |

 निष्कर्ष :

लक्षण के हिसाब से यदि आपको मष्तिष्क से जुडी कोई भी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है तो आप अपने डॉक्टर से सलाह लेकर किसे अच्छे न्यूरोलॉजिस्ट के सम्पर्क में आए ताकि आपकी बीमारी का रोकथाम वही पर कर दिया जाए। जिससे की आपको ज्यादा परेशानी का सामना नहीं करना पड़ेगा।

मिर्गी का अटैक आने पर आजमाएं ये पांच घरेलू नुस्खे,जो अटैक के प्रभाव को काम करें
epilepsyHindi

मिर्गी का अटैक आने पर आजमाएं ये पांच घरेलू नुस्खे,जो अटैक के प्रभाव को काम करें

मिर्गी के अटैक को दीर्घकालिक स्थिति भी कहा जाता है, जिसमे अटैक बार-बार आते है | मिर्गी का अटैक 30 सेकंड या 2  मिनट से ज़यादा समय तक नहीं रहता …

  • May 28, 2024

  • 7 Views

Neurological Evidence of a Mind-Body Connection
Neurologist

Neurological Evidence of a Mind-Body Connection

If we talk about neurology, then first of all, we should know about the mind, as it is associated with the brain. The brain is made up with billions of…

  • May 25, 2024

  • 2 Views