नींद की कमी जानिए कैसे बढ़ा सकता है मानसिक रोग ‘डिमेंशिया’ का खतरा, और क्या है इससे बचाव के तरीके ?

हम जिस तेज़-तर्रार दुनिया में रहते है, वहां अक्सर रात की अच्छी नींद हमारे व्यस्त कार्यक्रम में पीछे रह जाती है। हालाँकि, हमारी नींद की उपेक्षा के परिणाम अगले दिन सुस्ती महसूस करने से कहीं अधिक दूर तक जाते है। हाल के अध्ययनों से नींद की कमी और मनोभ्रंश विकसित होने के बढ़ते जोखिम के बीच एक मजबूत संबंध का पता चलता है, जो संज्ञानात्मक गिरावट की विशेषता वाले विकारों का एक समूह है। यह संबंध हमारे मानसिक स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए गुणवत्तापूर्ण नींद को प्राथमिकता देने के महत्व को रेखांकित करता है। तो आइये जानने की कोशिश करते है की नींद की कमी से व्यक्ति मानसिक रोग डिमेंशिया का शिकार कैसे होता है और साथ ही इससे बचाव के तरीके क्या है ; 

नींद मानव शरीर से कैसे संबंधित है ?

  • मानव मस्तिष्क एक जटिल अंग है और इसके समुचित कार्य के लिए पर्याप्त नींद महत्वपूर्ण है। जब हम लगातार खुद को नींद से वंचित रखते है, तो हमारे दिमाग को उन आवश्यक प्रक्रियाओं से गुजरने का मौका नहीं मिलता है जो स्मृति समेकन, सीखने और समग्र संज्ञानात्मक कार्य में सहायता करती है। समय के साथ, नींद की कमी मस्तिष्क में बीटा-एमिलॉइड जैसे हानिकारक प्रोटीन के संचय में योगदान कर सकती है, जो मनोभ्रंश के विकास से जुड़ा है।
  • अपने मस्तिष्क की सफ़ाई करने वाली एक टीम के रूप में नींद की कल्पना करें। गहरी नींद के दौरान मस्तिष्क दिन भर जमा होने वाले विषाक्त पदार्थों को बाहर निकालता है। जब हम अपने दिमाग को यह आवश्यक समय नहीं देते है, तो ये विषाक्त पदार्थ जमा हो सकते है, जिससे संभावित रूप से प्लाक और उलझनें बन सकती है, जो मनोभ्रंश के प्रमुख संकेतक है। 
  • संक्षेप में, नींद की लगातार कमी संज्ञानात्मक विकारों की शुरुआत और प्रगति के लिए अनुकूल वातावरण बना सकती है।

प्रयाप्त नींद न लेने की वजह से अगर आप मानसिक समस्या के शिकार हो गए है, तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन जरूर से करना चाहिए।

प्रयाप्त नींद कैसे लें ? 

  • नींद की कमी के कारण मनोभ्रंश के संभावित खतरे को रोकने के लिए स्वस्थ नींद की आदतों को अपनाना शामिल है। सबसे पहले, एक सुसंगत नींद कार्यक्रम स्थापित करना सर्वोपरि है। हर दिन एक ही समय पर बिस्तर पर जाना और जागना आपके शरीर की आंतरिक घड़ी को विनियमित करने में मदद करता है, जिससे अधिक आरामदायक और आरामदायक नींद को बढ़ावा मिलता है। यह सरल कदम अनियमित नींद पैटर्न से जुड़े संज्ञानात्मक गिरावट के जोखिम को काफी कम कर सकता है।
  • नींद के लिए अनुकूल माहौल बनाना मनोभ्रंश से बचने का एक और आवश्यक पहलू है। अपने शयनकक्ष को ठंडा, अंधेरा और शांत रखें, और आरामदायक गद्दे और तकिए में निवेश करें। सोने से पहले इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के संपर्क को कम करना महत्वपूर्ण है, क्योंकि उत्सर्जित नीली रोशनी मेलाटोनिन के उत्पादन में हस्तक्षेप कर सकती है, एक हार्मोन जो नींद-जागने के चक्र को नियंत्रित करता है।

व्यायाम बेहतरीन नींद के लिए कैसे सहायक है ?

  • नियमित व्यायाम मनोभ्रंश के खिलाफ लड़ाई में एक शक्तिशाली सहयोगी है। शारीरिक गतिविधि में शामिल होने से न केवल नींद की गुणवत्ता में सुधार होता है, बल्कि मस्तिष्क की समग्र कार्यक्षमता भी बढ़ती है। सप्ताह के अधिकांश दिनों में कम से कम 30 मिनट का मध्यम व्यायाम करने का लक्ष्य रखें। यह तेज़ चलना, तैरना, या नृत्य सत्र जितना सरल हो सकता है – आप जो आनंद लेते है उसे ढूंढें और इसे अपनी दिनचर्या का नियमित हिस्सा बनाएं।
  • गहरी साँस लेने के व्यायाम और ध्यान जैसी मानसिक विश्राम तकनीकें भी मनोभ्रंश को रोकने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है। ये अभ्यास मन को शांत करने, तनाव कम करने और शांति की भावना को बढ़ावा देने में मदद करते है, जो गुणवत्तापूर्ण नींद के लिए अनुकूल है। सोते समय एक ऐसी दिनचर्या स्थापित करना जिसमें इन विश्राम तकनीकों को शामिल किया जाए, यह आपके शरीर को संकेत दे सकते है कि यह आराम करने का समय है, जिससे सो जाना आसान हो जाता है।

पूरी नींद न लेने की वजह से कई बार व्यक्ति रुक-रुक कर होने वाले सिर दर्द की समस्या का सामना भी करता है, तो अगर आपमें भी इस तरह की समस्या नज़र आए तो इससे बचाव के लिए आपको लुधियाना में क्लस्टर स्ट्रोक का इलाज जरूर से करवाना चाहिए।

मानसिक समस्या से निजात पाने के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

नींद पूरी ना करने के कारण अगर आप मानसिक रोग या डिमेंशिया जैसी गंभीर समस्या का सामना कर रहें है, तो इससे बचाव के लिए आपको झावर हॉस्पिटल का चयन जरूर से करना चाहिए। 

निष्कर्ष :

स्वस्थ नींद की आदतें अपनाकर, लगातार सोने का कार्यक्रम बनाए रखकर, अनुकूल नींद का माहौल बनाकर, नियमित व्यायाम में संलग्न होकर और विश्राम तकनीकों का अभ्यास करके, हम अपने मानसिक स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए सक्रिय कदम उठा सकते है। अब समय आ गया है कि हम नींद के हमारे संज्ञानात्मक कल्याण पर पड़ने वाले गहरे प्रभाव को पहचानें और इसे अपने जीवन में प्राथमिकता दें।

Complete Relief From Headaches: Another Jhawar Neuro Success Story
Patient Testimonials

Complete Relief From Headaches: Another Jhawar Neuro Success Story

Jhawar Neuro is one of the leading Neuro Hospitals in Punjab and has helped multiple patients find solace and relief from their problems and diseases. One such patient we had…

  • May 15, 2024

  • 16 Views

A Message By Dr. Sukhdeep Jhawar About The Awareness Of Brain Stroke
Brain disorders

A Message By Dr. Sukhdeep Jhawar About The Awareness Of Brain Stroke

Brain stroke is a commonly rising problem among people that not only affects their lives but also puts major concerns on their loved ones.  The issue of brain stroke requires…

  • May 6, 2024

  • 40 Views