जानिए नस की बीमारी होने पर खुद से दवा लेना कैसे भारी पड़ सकता है ?

नसों का हमारे शरीर में महत्वपूर्ण स्थान होता है, क्युकी ये हमारे शरीर की रक्त की धाराओं को सम्पूर्ण शरीर में प्रयाप्त मात्रा में पहुंचाती है, पर जरा सोचें अगर किसी कारण इनमे किसी तरह की परेशानी आ जाए तो कैसे हम इस तरह की समस्या से खुद का बचाव कर सकते है। वही बहुत से लोगों के मन में आज ये सवाल होगा की सामान्य नसों में परेशानी होने पर खुद से दवाई ले या न ले, तो ऐसे प्रश्नो के बारे में हम आज के आर्टिकल में चर्चा करेंगे, इसलिए आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े ;

नस क्या होते है ?

  • नसें रक्त वाहिकाएं होती हैं जो रक्त को हृदय की ओर ले जाती है। वही मानव शरीर में दो प्रकार की नसें होती है, पहली गहरी नसें और दूसरी सतही नसें। 
  • वही गहरी नसों की बात करें तो ये नसें शरीर के भीतर गहरी स्थित होती है, जबकि सतही नसें त्वचा की सतह के करीब स्थित होती हैं और अक्सर दिखाई देती हैं।

नसों की कमजोरी क्या है ?

  • नसों की कमजोरी को मेडिकल के टर्म में न्यूरोपैथी के नाम से जाना जाता है। वहीं, बात जब संपूर्ण शरीर की नसों की कमजोरी की हो रही हो, तो उसके लिए मेडिकली टर्म के रूप में इसे पेरिफेरल न्यूरोपैथी कहा जाता है। 
  • नसों की बात की जाए तो ये शरीर में किसी कम्प्यूटर के वायर की तरह काम करती है, जो शरीर की विभिन्न क्रियाओं को करने के लिए दिमाग तक संदेश पहुंचाती है। वही जब किसी वजह से ये नसें दिमाग तक ठीक तरह से संदेश पहुंचाने में विफल होती है या फिर नहीं पहुंचा पाती है, तो इसे ही नसों की कमजोरी के रूप में जाना जाता है। 

नसों में कमजोरी के लक्षण है ?

  • स्मरण शक्ति में क्षति का पहुंचना। 
  • सिर दर्द की समस्या। 
  • मांसपेशियों में अकड़न की समस्या। 
  • पीठ में दर्द की समस्या। 
  • झटके या दौरे का पड़ना। 

कारण क्या है नसों के कमजोरी के ?

  • किसी तरह की बीमारी का होना। 
  • किसी वजह से नसों पर दबाव का पड़ना। 
  • जेनेटिक समस्या का होना। 
  • दवाओं के दुष्प्रभाव, पोषण तत्वों में कमी या विषाक्त पदार्थ के कारण भी ऐसी समस्या हो सकती है। 

नसों में कमजोरी के कारणों के बारे में विस्तार से जानने के लिए लुधियाना में बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करें। 

क्या नसों की बीमारी होने पर हम खुद से दवाई ले सकते है ?

  • नसों का हमारे शरीर में बहुत ही महत्वपूर्ण स्थान है इसलिए अगर इनमे किसी भी तरह की समस्या आ जाए तो खुद से या किसी के कहने से दवा का सेवन न करें। बल्कि आपको नसों में कमजोरी महसूस हो रही है तो इसके लिए आप न्यूरो विशेषज्ञों से करें। 

नसों की कमजोरी को कैसे दूर किया जा सकता है ?

  • नियमित व्यायाम, उचित आराम, उचित स्वास्थ्य देखभाल की स्थिति और उचित और संतुलित आहार खाने से नसों की कमजोरी को ठीक किया जा सकता है।

नसों की कमजोरी की जाँच व इलाज के लिए बेस्ट हॉस्पिटल !

  • अगर आप भी नसों के कमजोरी की समस्या का सामना उपरोक्त जैसे कर रहें है तो इससे बचाव के लिए आपको झावर हॉस्पिटल का चयन करना चाहिए। 

निष्कर्ष :

आयरन की कमी से मानसिक स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ता है, जाने इसके क्या है लक्षण
HindiNeurologist

आयरन की कमी से मानसिक स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ता है, जाने इसके क्या है लक्षण

आयरन मानव के शरीर के लिए बेहद ज़रूरी मिनरल होता है, जो कई महतवपूर्ण कार्य में अपनी विशेष भूमिका निभाते है | दरअसल आयरन शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं की…

  • June 17, 2024

  • 9 Views

माइग्रेन को कम करने के लिए बेहद ही आसान घरेलु नुस्खा,जो इस समस्या को करे जड़ से ख़तम
Hindi

माइग्रेन को कम करने के लिए बेहद ही आसान घरेलु नुस्खा,जो इस समस्या को करे जड़ से ख़तम

अगर आप भी गंभीर सिरदर्द और माइग्रेन जैसी समस्या से पीड़ित है तो ऐसे ही कुछ घरेलु उपचार का इस्तेमाल करके इस समस्या से छुटकारा पा सकते है  | यह…

  • June 11, 2024

  • 15 Views