क्या है न्यूरोसर्जन और न्यूरोलॉजिस्ट के बीच का मत्वपूर्ण अंतर ?

न्यूरोलॉजिस्ट और न्यूरोसर्जन के बारे में तो अकसर सबने सुना होगा लेकिन इनके बीच के अंतर के बार्रे में बहुत कम लोगों को पता है। इसलिए आज के लेख में हम इन दोनों के बीच अंतर क्या है उसके बारे में बात करेंगे की आखिर इन दोनों का काम क्या होता है और अगर इनसे कोई ट्रीटमेंट करवाना हो तो कौन-से डॉक्टर को किस बीमारी के लिए चुने, तो शुरुआत करते है आर्टिकल की ;

न्यूरोसर्जन और न्यूरोलॉजिस्ट के बीच क्या अंतर है ?

  • न्यूरोलॉजिस्ट और न्यूरोसर्जन दोनों तंत्रिका प्रणाली विकारों का निदान और प्रबंधन करते है, लेकिन न्यूरोलॉजिस्ट सर्जरी नहीं करते हैं। न्यूरोलॉजिस्ट जटिल न्यूरोलॉजिकल निदान खोजने पर ध्यान केंद्रित करते हैं जिनका इलाज अन्य दवाओं या उपचारों के साथ किया जा सकता है।
  • जबकि एक न्यूरोसर्जन चिकित्सा समस्याओं के इलाज के लिए सर्जरी कर सकता है, न्यूरोलॉजिस्ट दवाओं और अन्य प्रक्रियाओं के साथ विशिष्ट स्थितियों का इलाज भी करते है। 
  • एक न्यूरोलॉजिस्ट और एक न्यूरोसर्जन दोनों ही ईईजी और एमआरआई जैसे जटिल न्यूरोलॉजिकल परीक्षण कर सकते हैं। फिर भी, केवल न्यूरोसर्जन ही स्थिति को ठीक करने के लिए सर्जरी करने के लिए निष्कर्षों का उपयोग कर सकते है, जबकि न्यूरोलॉजिस्ट केवल दवाओं का सुझाव दे सकते है या रोगी को देखभाल के लिए न्यूरोसर्जन के पास भेज सकते है।

तो अगर आपको ये जानना है की बीमारी के समय कौन सी दवाइयां आपको लेनी है तो इसके लिए आपको बेस्ट न्यूरोलॉजिस्ट लुधियाना का चयन करना चाहिए।

न्यूरोलॉजिस्ट किस चीज में माहिर होते है ?

अगर आपमें निम्न लक्षण नज़र आए तो इसके लिए आपको न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहिए ;

  • लगातार चक्कर का आना। 
  • भावनाओं में बदलाव का आना। 
  • संतुलन के साथ कठिनाइयाँ। 
  • सिर दर्द की समस्या। 
  • भावनात्मक भ्रम। 
  • मांसपेशियों की थकान आदि। 

न्यूरोलॉजिस्ट दवाइयों की मदद से व्यक्ति का इलाज करते है और ये सर्जरी का चुनाव नहीं करते। 

न्यूरोसर्जन किस चीज में माहिर होते है?

अगर आपमें निम्न गंभीर लक्षण नज़र आए तो सर्जरी करवाने के लिए आपको न्यूरोसर्जन का चयन करना चाहिए ; 

  • इंडोवैस्कुलर रिपेयर करना। 
  • डिस्क हटाना। 
  • क्रानिओटोमी की समस्या। 
  • लम्बर पंक्चर समस्या की सर्जरी। 
  • अनुरिस्म रिपेयर आदि समस्याओं का न्यूरोसर्जन के द्वारा सर्जरी करके ठीक किया जाता है। 

न्यूरोसर्जन और न्यूरोलॉजिस्ट कौन-सी बीमारी का इलाज करते है ?

  • एक न्यूरोलॉजिस्ट मिर्गी, अल्जाइमर रोग, परिधीय तंत्रिका विकार और एएलएस जैसी न्यूरोलॉजिकल स्थितियों के इलाज में रुचि रखते हैं।
  • जबकि न्यूरोसर्जन मस्तिष्क की चोटों, ट्यूमर को हटाने और कार्पल टनल सिंड्रोम से निपटने में मदद करता है।

न्यूरोसर्जन और न्यूरोलॉजिस्ट की चयन के लिए बेहतरीन हॉस्पिटल ?

  • अगर आप अपनी बीमारी के इलाज और सर्जरी के लिए किसी बेहतरीन न्यूरोसर्जन और न्यूरोलॉजिस्ट का चयन करना चाहते है तो इसके लिए आप झावर ब्रेन एन्ड स्पाइन हॉस्पिटल का चयन कर सकते है।

एक न्यूरोसर्जन और न्यूरोलॉजिस्ट की शैक्षिक योग्यता क्या है ?

  • एक न्यूरोलॉजिस्ट बनने के लिए चार साल के प्री-मेडिकल स्कूल की आवश्यकता होती है, इसके बाद न्यूरोलॉजी में मेडिकल डिग्री और मूवमेंट, स्ट्रोक आदि में अतिरिक्त प्रशिक्षण की आवश्यकता होती है। 
  • वही न्यूरोसर्जन बनने का शैक्षिक मार्ग अधिक विस्तृत है, जिसके लिए चार साल के प्री-मेडिकल स्कूल और चार साल के मेडिकल स्कूल की आवश्यकता होती है।

निष्कर्ष :

उम्मीद करते है की आपने जान लिया होगा की आखिर क्या अंतर है न्यूरोसर्जन और न्यूरोलॉजिस्ट के बीच। तो भविष्य में अगर आपको किसी भी तरह की बीमारी होगी तो आपको ये सोचने की जरूरत नहीं होगी की आप कौन से डॉक्टर के पास जाए अपनी परेशानी के लिए।

आयरन की कमी से मानसिक स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ता है, जाने इसके क्या है लक्षण
HindiNeurologist

आयरन की कमी से मानसिक स्वास्थ्य पर काफी बुरा असर पड़ता है, जाने इसके क्या है लक्षण

आयरन मानव के शरीर के लिए बेहद ज़रूरी मिनरल होता है, जो कई महतवपूर्ण कार्य में अपनी विशेष भूमिका निभाते है | दरअसल आयरन शरीर में लाल रक्त कोशिकाएं की…

  • June 17, 2024

  • 9 Views

माइग्रेन को कम करने के लिए बेहद ही आसान घरेलु नुस्खा,जो इस समस्या को करे जड़ से ख़तम
Hindi

माइग्रेन को कम करने के लिए बेहद ही आसान घरेलु नुस्खा,जो इस समस्या को करे जड़ से ख़तम

अगर आप भी गंभीर सिरदर्द और माइग्रेन जैसी समस्या से पीड़ित है तो ऐसे ही कुछ घरेलु उपचार का इस्तेमाल करके इस समस्या से छुटकारा पा सकते है  | यह…

  • June 11, 2024

  • 15 Views